December 5, 2021
Trending News

कोरोना की तीसरी लहर के खौफ के बीच क्या बच्चों को स्कूल भेजन है सही? ICMR के चेयरमैन से जानें अभिभावक क्या करे क्या नहीं

नई दिल्‍ली: देश पर कोरोना की तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है। दूसरी लहर के जाने के बाद से जब मामलों में कमी आयी थी तब कई राज्यों ने स्कूल खोल दिए है। कोरोना के डर के चलते अभी भी अभिभावक बच्‍चों को स्‍कूल भेजने से कतरा रहे हैं, इसपर माता - पिता के मन में उठ रहे सवालों पर ICMR ने टास्‍क फोर्स ऑपरेशन ग्रुप के चेयरमैन ने जवाब दिया।

ICMR के टास्‍क फोर्स ऑपरेशन ग्रुप फॉर कोविड-19 के चेयरमैन डॉ. एन के अरोड़ा से पूछा गया क‍ि, कुछ अभिभावक कोविड की तीसरी लहर की शंका के चलते बच्चों को अभी स्कूल भेजने के लिए सहमत नहीं हैं। क्या वास्तव में तीसरी लहर का आना निश्चित है? 

एन के अरोड़ा ने दिया जवाब-
उन्‍होंने जवाब देते हुए कहा कि, व्यक्तिगत रूप से उन्‍हें लगता है वायरस की वर्तमान स्थिति, एपिडेमियोलॉजी, सीरो पॉजिटिविटी दर और सबसे अहम अभी देखे जा रहे 90 प्रतिशत कोविड मरीज डेल्टा वेरिएंट (Delta Variant) के हैं. अभी कोई नया वेरिएंट पिछले चार हफ्तों में नहीं देखा गया है। 

उन्‍होंने कहा कि, ऐसा कहा जा सकता है कि हम दूसरी लहर की अंतिम अवस्था में है. तीसरी लहर की आशंका उस स्थिति में ही मजबूत होगी जबकि हम कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन करना छोड़ देगें, विशेष रूप से आने वाले त्यौहार के मौसम में भी हमें कोविड अनुरूप व्यवहार (CAB) का पालन करना होगा। उत्सव मानने के लिए लोगों का एक जगह पर इकट्टा होना हानिकारक हो सकता है।

स्कूलों को लेकर डॉ. अरोड़ा ने दी जानकारी-
स्‍कूलों को लेकर डॉ. अरोड़ा ने कहा कि, कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन स्कूलों में भी करना जरूरी है. क्लास में भीड़ जमा नहीं होने देनी है. स्कूल अध्यापिकाओं और बच्चों के लिए मास्क अनिवार्य रूप से प्रयोग किया जाए. मास्क का प्रयोग करने के लिए स्कूल स्टॉफ को बच्चों को प्रोत्साहित करना होगा। बच्चे डेढ साल से भी अधिक लंबे समय से घरों में कैद हैं, उन्होंने कोविड काल में अपने जीवन में कई तरह की घटनाएं देखी हैं. किसी भी तरह का अहम निर्णय लेने से पहले अभिभावक भी मानसिक रोग विशेषज्ञ, शिक्षाविद् या फिर मनोचिकित्सक से सलाह ले सकते हैं।

बच्चो को वैक्सीन लगने की बात पर उन्होंने दिया जवाब- 
बच्चों के लिए भी कोविड की वैक्सीन आने और कुछ अभिभावकों के टीकाकरण के बाद ही बच्चों को स्कूल भेजने की बात कहने पर उन्‍होंने कहा कि, बच्चों के टीकाकरण के लिए इंतजार किया जा सकता है. भारत और वैश्विक आंकड़ों के आधार पर यह देखा गया है कि बच्चों में कोविड के गंभीर संक्रमण और मृत्यु की संभावना बड़ों की अपेक्षा कम है. हालांकि बच्चों द्वारा संक्रमण फैल सकता है।

18 साल से कम उम्र के बच्चों की अपेक्षा बड़ों में कोविड संक्रमण से मृत्यु और कोविड की गंभीर स्थिति का खतरा 15 गुना अधिक होता है. इसलिए बच्चों के आसपास रहने वाले व्यस्क स्कूल हों या घर पर अगर सभी को कोविड का वैक्सीन लगा होगा तो हम बच्चों के लिए कोविड संक्रमण सुरक्षा का घेरा तैयार कर सकेगें. इस स्थिति में वायरस के फैलाव और संचरण की संभावना को काफी हद तक कम किया जा सकता है या रोका जा सकता है।

बच्चों को स्कूल जरूर भेजें अभिभावक: डॉ. अरोड़ा
डॉ. अरोड़ा कहते हैं कि उन्‍हें मुझे यह लगता है कि अभिभावकों को बच्चों को स्कूल जरूर भेजना चाहिए और इसके लिए कोविड टीकाकरण का इंतजार करना सही नहीं है, इसकी दो प्रमुख वजह हैं. पहला बच्चों में कोविड संक्रमण का गंभीर खतरा होने की संभावना कम होती है या न के बराबर है दूसरा बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए उनका स्कूल जाना बहुत जरूरी है।

Story Origin : नई दिल्ली

Comments

Leave a comment

HEADLINES

अलीगढ़ के डॉक्टरों ने किया कमाल, 5 महीने के मासूम के दिल-फेफड़ों को 110 मिनट रोककर दिया जीवनदान | Earthquake in Assam: असम और गुवाहाटी में लगे तेज भूकंप के झटके, जानमाल का नुकसान नहीं | किसान आंदोलनः आगे की रणनीति पर SKM की बैठक आज, कल भी होगी बैठक | जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी ढेर किया, मुठभेड़ जारी | कृषि कानूनों की वापसी BJP की चुनावी स्वार्थ व मजबूरी, ठोस फैसले लेने की जरूरत- मायावती | छत्तीसगढ़ को मिला सबसे स्वच्छ राज्य का अवार्ड, CM भूपेश बोले- महिलाओं ने बनाया नंबर-1 | सलमान खान का नया गाना 'कोई तो आएगा' रिलीज, एक्शन में भाईजान | करतारपुर साहिब के लिए रवाना हुए सिद्धू, अमृतसर आवास पर अरदास कर टेका मत्था | Bitcoin में आई बड़ी गिरावट, एक माह के निचले स्तर पर पहुंचे रेट | Lakhimpur Case: प्रियंका गांधी बोलीं- गृह राज्यमंत्री के साथ मंच साझा नहीं, उन्हें बर्खास्त करें पीएम मोदी | इंदौर ने फिर रचा इतिहास, लगातार 5वीं बार मिला देश में सबसे स्वच्छ शहर का अवॉर्ड | Rajasthan Cabinet Expansion: गोविंद सिंह डोटासरा का इस्तीफा, माकन से मिलेंगे पायलट, शपथ ग्रहण कल | वर्चुअल सुनवाई के दौरान बनियान में ही आ गया शख्स, दिल्ली HC ने लगाया 10 हजार का जुर्माना | देश भर के स्‍कूलों में जाएंगे टोक्‍यो ओलंपिक के हीरो, सरकार ने बनाया मेगा प्‍लान | स्वच्छता सर्वेक्षण: वाराणसी ने पेश की मिसाल, सबसे स्वच्छ गंगा शहर की लिस्ट में पहला स्थान मिला |