December 5, 2021
Trending News

मायावती ने सुनाई अखिलेश को खरी खरी, बोलीं - 'संकीर्ण राजनीति में माहिर, पार्टी में पड़ेगी फूट'

लखनऊ। अगले साल देश के सबसे बड़े राजनीतिक अखाड़े उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं, जिसके कारण तोड़-जोड़ और बयानों के तीर हर तरफ से चलना शुरू हो गए हैं. बहुजन समाज पार्टी के करीब 9 बागी विधायकों के समाजवादी पार्टी में शामिल होने की अटकलें और अखिलेश यादव से मुलाकात की खबरों के बाद मायावती ने तीखा हमला बोला है. मायावती ने समाजवादी पार्टी के को दलित-विरोधी बताया है और संकीर्ण राजनीति में माहिर होने का आरोप लगाया है.


''अखिलेश यादव जिन विधायकों से मिले हैं उन लोगों को काफी पहले ही समाजवादी पार्टी और एक उद्योगपति से मिली भगत के कारण बीएसपी से निलम्बित किया जा चुका है.'' - मायावती 


मायावती ने अपने ट्वीट में कहा, ''घृणित जोड़तोड़, द्वेष व जातिवाद आदि की संकीर्ण राजनीति में माहिर समाजवादी पार्टी द्वारा मीडिया के सहारे यह प्रचारित करना कि बीएसपी के कुछ विधायक टूट कर सपा में जा रहे हैं घोर छलावा है. जबकि उन्हें काफी पहले ही समाजवादी पार्टी और एक उद्योगपति से मिलीभगत के कारण राज्यसभा के चुनाव में एक दलित के बेटे को हराने के आराप में बीएसपी से निलम्बित किया जा चुका है.''


SP में पड़ेगी फूट - मायावती 

मायावती ने आगे कहा, “समाजवादी पार्टी अगर इन निलंबित विधायकों के प्रति थोड़ी भी ईमानदार होती तो अब तक इन्हें अधर में नहीं रखती. क्योंकि इनको यह मालूम है कि बीएसपी के अगक इन विधायकों को लिया तो समाजवादी पार्टी में बगावत और फूट पड़ेगी, जो बीएसपी में आने को आतुर बैठे हैं.

जगजाहिर तौर पर SP का चाल, चरित्र व चेहरा हमेशा ही दलित-विरोधी रहा है, जिसमें थोड़ा भी सुधार के लिए वह कतई तैयार नहीं. इसी कारण SP सरकार में बीएसपी सरकार के जनहित के कामों को बंद किया व खासकर भदोई को नया संत रविदास नगर जिला बनाने को भी बदल डाला, जो अति-निन्दनीय. वैसे बीएसपी के निलंबित विधायकों से मिलने आदि का मीडिया में प्रचारित करने के लिए कल किया गया SP का यह नया नाटक यूपी में पंचायत चुनाव के बाद अध्यक्ष व ब्लाक प्रमुख के चुनाव के लिए की गई पैंतरेबाजी ज्यादा लगती है. यूपी में बीएसपी जन आकांक्षाओं की पार्टी बनकर उभरी है जो जारी रहेगा.


मंगलवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव से बीएसपी के बागी विधायकों के एक दल ने मुलाकात की है. पहले खबरें आ रही थीं कि बीएसपी से निलंबित 9 विधायक समाजवादी पार्टी में शामिल होंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं. फिलहाल इन विधायकों के समाजवादी पार्टी में जुड़ने को लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.


मायावती और अखिलेश 2019 लोकसभा चुनाव में थे एक साथ 

2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के हाथों करारी हार के बाद 2019 लोकसभा चुनाव में पुरानी दुशमनी को भुलाकर अखिलेश यादव और मायावती की पार्टी ने एक साथ चुनाव लड़ा था. जिसका सीधा फायदा मायावती को हुआ. लोकसभा में बीएसपी जीरो से 10 सासंद वाली पार्टी बन गई. वहीं समाजवादी पार्टी 5 सीटों पर सिमट गई. लेकिन चुनाव के ठीक बाद मायावती ने समाजवादी पार्टी पर इलजाम लगाते हुए गठबंधन से खुद को अलग कर लिया.

Comments

Leave a comment

HEADLINES

अलीगढ़ के डॉक्टरों ने किया कमाल, 5 महीने के मासूम के दिल-फेफड़ों को 110 मिनट रोककर दिया जीवनदान | Earthquake in Assam: असम और गुवाहाटी में लगे तेज भूकंप के झटके, जानमाल का नुकसान नहीं | किसान आंदोलनः आगे की रणनीति पर SKM की बैठक आज, कल भी होगी बैठक | जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी ढेर किया, मुठभेड़ जारी | कृषि कानूनों की वापसी BJP की चुनावी स्वार्थ व मजबूरी, ठोस फैसले लेने की जरूरत- मायावती | छत्तीसगढ़ को मिला सबसे स्वच्छ राज्य का अवार्ड, CM भूपेश बोले- महिलाओं ने बनाया नंबर-1 | सलमान खान का नया गाना 'कोई तो आएगा' रिलीज, एक्शन में भाईजान | करतारपुर साहिब के लिए रवाना हुए सिद्धू, अमृतसर आवास पर अरदास कर टेका मत्था | Bitcoin में आई बड़ी गिरावट, एक माह के निचले स्तर पर पहुंचे रेट | Lakhimpur Case: प्रियंका गांधी बोलीं- गृह राज्यमंत्री के साथ मंच साझा नहीं, उन्हें बर्खास्त करें पीएम मोदी | इंदौर ने फिर रचा इतिहास, लगातार 5वीं बार मिला देश में सबसे स्वच्छ शहर का अवॉर्ड | Rajasthan Cabinet Expansion: गोविंद सिंह डोटासरा का इस्तीफा, माकन से मिलेंगे पायलट, शपथ ग्रहण कल | वर्चुअल सुनवाई के दौरान बनियान में ही आ गया शख्स, दिल्ली HC ने लगाया 10 हजार का जुर्माना | देश भर के स्‍कूलों में जाएंगे टोक्‍यो ओलंपिक के हीरो, सरकार ने बनाया मेगा प्‍लान | स्वच्छता सर्वेक्षण: वाराणसी ने पेश की मिसाल, सबसे स्वच्छ गंगा शहर की लिस्ट में पहला स्थान मिला |