December 5, 2021
Entertainment

अपने '2014 में मिली आज़ादी' के बयान पर कंगना का बड़ा एलान, कहा-'कोई गलत साबित कर दे तो पद्मश्री लौटाने के लिए तैयार'

मुंबई: कंगना रनौत अपने बयान के चकते एक बार फिर से सुर्खियों में है। बीते कुछ दिनों पहले दिए अपने बयान के चलते कंगना काफी ट्रोल हुई थी, जिसपर उन्होंने फिर बयान दिया है, जिसपर वो एक बार फिर से घिर गयी है, इसपर कंगना के खिलाफ देश के कई हिस्सों में शिकायत दर्ज हो गई तो कुछ लोगों ने तो उनसे पद्मश्री सम्मान वापस लिए जाने की भी मांग कर डाली। देश को वर्ष 1947 में मिली आजादी को ‘भीख’ बताकर विवादों में घिरीं ‘पंगा गर्ल’ कंगना रनौत ने एक बार फिर से इस मामले पर अपनी बात रखी है। 


कंगना पद्मश्री सम्मान वापस करने के लिए तैयार हैं, लेकिन इसके लिए उन्होंने एक शर्त रखी है. कंगना रनौत ने पिछले दिनों एक टीवी कार्यक्रम में कहा था, ‘सावरकर, रानी लक्ष्मीबाई और नेताजी सुभाषचंद्र बोस इन लोगों की बात करूं तो ये लोग जानते थे कि खून बहेगा, लेकिन ये भी याद रहे कि हिंदुस्तानी-हिंदुस्तानी का खून नहीं बहाए। 


उन्होंने आजादी की कीमत चुकाई, पर 1947 में जो मिली वो आजादी नहीं थी, वो भीख थी और जो आजादी मिली है वो 2014 में मिली जब नरेंद्र मोदी की अगुआई में बीजेपी की सरकार सत्ता में आई.’ कंगना के इस बयान को लेकर तब से ही खूब हंगाना मचा हुआ है।


कंगना रनौत ने इंस्टा स्टोरी पर ये सफाई दी है.
कंगना ने आगे लिखा, ‘मैंने रानी लक्ष्मीबाई जैसी शहीद पर बनी फीचर फिल्म में काम किया है. 1857 में हुई आजादी की पहली लड़ाई पर काफी रिसर्च किया. राष्ट्रवाद के साथ दक्षिणपंथ का भी उभार हुआ, लेकिन यह अचानक खत्म कैसे हो गया? और गांधी ने भगत सिंह को क्यों मरने दिया… आखिर क्यों नेता बोस की हत्या हुई और उन्हें कभी गांधी जी का सपोर्ट नहीं मिला. आखिर क्यों बंटवारे की रेखा एक अंग्रेज के द्वारा खींची गई? आजादी की खुशियां मनाने के बजाय भारतीय एक दूसरे को मार रहे थे. मुझे ऐसे कुछ सवालों के जवाब चाहिए जिसके लिए मुझे मदद की जरूरत है.’


कंगना ने इंस्टा स्टोरी पर लंबे पोस्ट शेयर किए हैं.
कंगना यहीं नहीं रुकीं उन्होंने आगे फिर लिखा- ‘जहां तक 2014 में मिली आजादी की बात है तो मैंने खास तौर पर कहा कि भले ही हमारे पास दिखाने के लिए आजादी थी, लेकिन भारत की चेतना और विवेक को आजादी 2014 में मिली. एक मृत सभ्यता को जान मिली और उसने अपने पंख फैलाए और अब यह जोरदार तरीके से दहाड़ रही है. आज पहली बार लोग इंग्लिश नहीं बोलने या छोटे शहर से आने या मेड इन इंडिया प्रॉडक्ट बनाने के लिए हमारी बेइज्जती नहीं कर सकते. उस इंटरव्यू में सब कुछ साफ किया गया है, लेकिन जो चोर हैं उनकी तो जलेगी कोई बुझा नहीं सकता. जय हिंद.’

Story Origin : नई दिल्ली

Comments

Leave a comment

HEADLINES

अलीगढ़ के डॉक्टरों ने किया कमाल, 5 महीने के मासूम के दिल-फेफड़ों को 110 मिनट रोककर दिया जीवनदान | Earthquake in Assam: असम और गुवाहाटी में लगे तेज भूकंप के झटके, जानमाल का नुकसान नहीं | किसान आंदोलनः आगे की रणनीति पर SKM की बैठक आज, कल भी होगी बैठक | जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों ने 1 आतंकी ढेर किया, मुठभेड़ जारी | कृषि कानूनों की वापसी BJP की चुनावी स्वार्थ व मजबूरी, ठोस फैसले लेने की जरूरत- मायावती | छत्तीसगढ़ को मिला सबसे स्वच्छ राज्य का अवार्ड, CM भूपेश बोले- महिलाओं ने बनाया नंबर-1 | सलमान खान का नया गाना 'कोई तो आएगा' रिलीज, एक्शन में भाईजान | करतारपुर साहिब के लिए रवाना हुए सिद्धू, अमृतसर आवास पर अरदास कर टेका मत्था | Bitcoin में आई बड़ी गिरावट, एक माह के निचले स्तर पर पहुंचे रेट | Lakhimpur Case: प्रियंका गांधी बोलीं- गृह राज्यमंत्री के साथ मंच साझा नहीं, उन्हें बर्खास्त करें पीएम मोदी | इंदौर ने फिर रचा इतिहास, लगातार 5वीं बार मिला देश में सबसे स्वच्छ शहर का अवॉर्ड | Rajasthan Cabinet Expansion: गोविंद सिंह डोटासरा का इस्तीफा, माकन से मिलेंगे पायलट, शपथ ग्रहण कल | वर्चुअल सुनवाई के दौरान बनियान में ही आ गया शख्स, दिल्ली HC ने लगाया 10 हजार का जुर्माना | देश भर के स्‍कूलों में जाएंगे टोक्‍यो ओलंपिक के हीरो, सरकार ने बनाया मेगा प्‍लान | स्वच्छता सर्वेक्षण: वाराणसी ने पेश की मिसाल, सबसे स्वच्छ गंगा शहर की लिस्ट में पहला स्थान मिला |