October 26, 2021
जल जंगल ज़मीन

राम मंदिर विवाद: हरीश पाठक उर्फ हरिदास जैसे कई नामों से है मशहूर राम जन्मभूनी परिषद बेचने वाला शख्स, जानें ज़मीन के 420 मालिक की कहानी

आयोध्या: अयोध्या जन्मभूमि में हुई घोटाले के मामले में अब ट्रस्ट ने एक और कहानी सुनाई है, जिसमे एक शख्स का नाम एक बार फिर चर्चा का विषय बना हुआ है। बताया जा रहा है कि, यह वही व्यक्ति है जिसने राम मंदिर परिषद की ज़मीन का सौदा किया है। इस मामले में अभी और परते खुलनी बाकी है, जिसमे कई खुलासे होने की आशंका जताई जा रही है। 


जानकारी के अनुसार, हरीश पाठक उर्फ हरिदास उर्फ बबलू पाठक उर्फ बकरी वाले बाबा। यही वह शख्स है जिसने 18 मार्च को अपनी पत्नी कुसुम पाठक के साथ मिलकर ही रवि तिवारी और सुल्तान अंसारी को अपनी जमीन 2 करोड़ रुपये में बेची थी, जिसको खरीदने के 5 मिनट बाद ही सुल्तान अंसारी और रवि तिवारी ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को यह जमीन साढ़े 18 करोड़ में बेच दी। 


अलग-अलग उपनामों वाले हरीश पाठक की क्या है पूरी कहानी?
हरीश पाठक बस्ती जिले के पठकापुर, बेलवा के रहने वाले और कि, वह ज़्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं। 25 फरवरी 2009 में इन्होंने चंद्र प्रकाश दुबे और प्रताप नारायण के साथ मिलकर साकेत गोट फार्मिंग नाम से एक कंपनी खोली। इसमें लोगों को निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया गया। ऑफर दिया गया कि, एक यूनिट यानि एक बकरी खरीद लीजिये। उस बकरी से जितना उत्पादन होगा- जैसे कि एक वर्ष में बकरी बच्चे देगी, दूध बिकेगा, जिससे बकरी पर लगाया धन जल्दी ही दो से तीन गुना हो जाएगा।


बकरी कंपनी पालेगी और सारी देखभाल और क्रय विक्रय कंपनी करेगी। बस निवेशक को एक या इससे अधिक जितनी इच्छा हो उतनी यूनिट यानि बकरी खरीदनी होगी, बाकी सारी जिम्मेदारी कंपनी की होगी। वह निवेशक को जल्दी ही उसका लगाया पैसा दोगुना या इससे अधिक करके दे देगी। लगभग 7 साल बाद 2016 में कंपनी को लेकर सवाल उठने लगे और 2019 तक हरीश पाठक पर एक के बाद एक कई मुकदमे दर्ज हो गए। 


जैसे अयोध्या जनपद के कैंट थाने में दर्ज मुकदमा संख्या 4/9/19 धारा 419, 420 , 467, 468,471. इसी तरह थाने में दर्ज 167/16 धारा 419, 420 , 120B , है. धोखाधड़ी और जालसाजी के इसी मुकदमे में जब यह पुलिस से भागते फिर रहे थे तो पुलिस ने 16 सितंबर 2018 को कुसुम पाठक के घर कुर्की कर दी थी. कई मुकदमों में इनके खिलाफ चार्जशीट न्यायालय में दाखिल हो चुकी है. अजब बात तो यह है कि सारे मुकदमे धोखाधड़ी और जालसाजी के ही है।

Story Origin : अयोध्या

Comments

Leave a comment

HEADLINES

Lakhimpur Kheri violence : कांग्रेस ने 4 किसान, 1 पत्रकार के परिजनों को दी 1 करोड़ की मदद | UP Board Exam 2022: यूपी बोर्ड परीक्षा 2022 के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 8 नवंबर तक बढ़ी | UP: योगी सरकार अब माफियाओं से खाली कराई गई जमीन पर बनाएगी सस्ते घर, गरीबों और कर्मचारियों को मिलेगा लाभ | Gorakhpur : नशे में धुत दबंगों ने पुलिसकर्मी को लाठी-डंडों से पीटा | Kisan Andolan: योगेंद्र यादव के निलंबन पर राकेश टिकैत की दो टूक, बोले- 40 लोगों की कमेटी का फैसला सही | हरियाणा: पतंजलि गोदाम में काम करने के बाद घर लौट रहे 3 युवकों की सड़क हादसे में मौत | UP Assembly Elections: यूपी चुनाव को लेकर कांग्रेस की अहम बैठक आज, महिला उम्मीदवारों को दी जाएगी प्राथमिकता | बॉलीवुड एक्ट्रेस मीनू मुमताज का कनाडा में निधन, मीना कुमारी ने रखा था इनका नाम | हिमाचल में फिर बढ़े दाम, शिमला में 105 रुपये के करीब पहुंचा पेट्रोल | 14 साल के लड़के को मिला 100 साल पुराना लव लेटर, लिखा था- 'चुपके से आधी रात में आना मिलने' | लहंगे में छुपाकर ऑस्‍ट्रेलिया भेजी जा रही थी सुडोफेड्रीन ड्रग्‍स, NCB ने पकड़ा | COVID-19 in India: 24 घंटे में कोरोना के 16326 नए मामले, केरल ने मौत के आंकड़े जोड़े तो बढ़ी धड़कन | ICC T20 WC: भारत पाकिस्तान मैच पर लगा 1000 करोड़ रुपये का सट्टा, एंटी करप्शन यूनिट मुस्तैद | बच्चों की कोरोना वैक्सीन पर अदार पूनावाला बोले- हम जल्दबाजी नहीं करेंगे | NCB की रडार पर 'प्रसिद्ध हस्ती' का नौकर, अनन्या पांडे के कहने पर आर्यन खान तक ड्रग्स पहुंचाने का शक |