October 26, 2021
जल जंगल ज़मीन

मध्य प्रदेश: 251 रुपए प्रति क्विंटल घाटे में बेचे जाने वाले दो लाख मैट्रिक टन गेहूं का मामला काफी पेचीदा, जानें पूरा मामला

भोपाल: मध्य प्रदेश में 251 रुपए प्रति क्विंटल घाटे में बेचे जाने वाले दो लाख मैट्रिक टन गेहूं के मामले को लेकर छिड़ा विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। इस पूरे मामले को इंदौर हाई कोर्ट में भी घसीटा जा चुका है और अब सिविल सप्लाईज कॉरपोरेशन द्वारा करोड़ों के घाटे में गेहूं बेचने की तैयारी को लेकर अब मंत्रिमंडल समिति फैसला लेगी।


जानकारी के अनुसार, ये मामला साल 2018 में शुरू हुआ था जब सिविल सप्लाईज कॉरपोरेशन ने समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की थी, जिसकी कीमत 1840 रुपए थी। छह लाख मैट्रिक टन से ज्यादा गेहूं में से दो लाख मैट्रिक टन गेहूं को सरकार ने बेचने का फैसला किया था. इसके लिए जो बेस्ट प्राइस तय की थी वह 1580 थी। समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के बाद घाटे में गेहूं बेचने के राज्य शासन के फैसले पर सरकार को करीब सौ करोड़ रुपए का नुकसान होना तय था. इस पूरे मामले को लेकर बवाल उठ खड़ा हुआ है। 


वहीं, अब खबर इस बात को लेकर है कि घाटे में गेहूं बेचने के मामले के तूल पकड़ने के बाद अब मंत्रिमंडल समूह गेहूं को बेचने को लेकर अंतिम फैसला करेगी। गेहूं बेचने के मामले को लेकर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह, कृषि मंत्री कमल पटेल और सहकारिता मंत्री अरविंद सिंह भदौरिया की कमेटी का गठन किया गया है। 


ये कमेटी एक-दो दिन में गेहूं बेचने से जुड़े मामले को लेकर फैसला करेगी और सीएम शिवराज को अपनी अनुशंसा देगी. कॉरपोरेशन के अध्यक्ष प्रदुम सिंह ने कहा कि गेहूं बेचने के मामले में टेंडर डालने वाली पुरानी कंपनी का टेंडर निरस्त किया जाएगा और नए सिरे से टेंडर जारी होगी।


कॉरपोरेशन के अध्यक्ष प्रदुम सिंह लोधी ने बताया-
सिविल सप्लाईज कॉरपोरेशन के अध्यक्ष प्रदुम सिंह लोधी ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि, घाटे में गेहूं बेचने का फैसला तत्कालीन कमलनाथ सरकार में हुआ था। सरकार ने टेंडर जारी किए थे, लेकिन एक ही कंपनी ने गेहूं खरीदी को लेकर दिलचस्पी दिखाई थी। उन्होंने बताया कि, करोड़ों के घाटे में गेहूं बेचने के मामले को लेकर सीएम शिवराज के निर्देश पर मंत्रिमंडल समूह अब फैसला लेगा।


कड़े नियमों से व्यापारी हो गए थे बाहर
सरकार ने टेंडर नियमों में कड़े नियम और शर्त रखी थीं, जिसके तहत सिर्फ करोड़ों के टर्नओवर वाली कंपनी ही इसमें हिस्सा ले सकती थी. टेंडर में जो शर्त रखी थी उसके तहत कहा गया था की फर्म की न्यूनतम नेटवर्थ 100 करोड़  होना चाहिए। 


सरकार की इस शर्त के कारण सिर्फ मल्टीनेशनल कंपनियों के ही हिस्सा लेने की संभावना बनी थी. जबकि प्रदेश के व्यापारी टेंडर की शर्त के कारण बाहर हो गए थे. ऐसे में पूरे मामले को लेकर मचे बवाल के बाद अब पुराने टेंडर को निरस्त कर नए सिरे से टेंडर जारी किए जाने के संकेत हैं।

Story Origin : भोपाल

Comments

Leave a comment

HEADLINES

Lakhimpur Kheri violence : कांग्रेस ने 4 किसान, 1 पत्रकार के परिजनों को दी 1 करोड़ की मदद | UP Board Exam 2022: यूपी बोर्ड परीक्षा 2022 के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 8 नवंबर तक बढ़ी | UP: योगी सरकार अब माफियाओं से खाली कराई गई जमीन पर बनाएगी सस्ते घर, गरीबों और कर्मचारियों को मिलेगा लाभ | Gorakhpur : नशे में धुत दबंगों ने पुलिसकर्मी को लाठी-डंडों से पीटा | Kisan Andolan: योगेंद्र यादव के निलंबन पर राकेश टिकैत की दो टूक, बोले- 40 लोगों की कमेटी का फैसला सही | हरियाणा: पतंजलि गोदाम में काम करने के बाद घर लौट रहे 3 युवकों की सड़क हादसे में मौत | UP Assembly Elections: यूपी चुनाव को लेकर कांग्रेस की अहम बैठक आज, महिला उम्मीदवारों को दी जाएगी प्राथमिकता | बॉलीवुड एक्ट्रेस मीनू मुमताज का कनाडा में निधन, मीना कुमारी ने रखा था इनका नाम | हिमाचल में फिर बढ़े दाम, शिमला में 105 रुपये के करीब पहुंचा पेट्रोल | 14 साल के लड़के को मिला 100 साल पुराना लव लेटर, लिखा था- 'चुपके से आधी रात में आना मिलने' | लहंगे में छुपाकर ऑस्‍ट्रेलिया भेजी जा रही थी सुडोफेड्रीन ड्रग्‍स, NCB ने पकड़ा | COVID-19 in India: 24 घंटे में कोरोना के 16326 नए मामले, केरल ने मौत के आंकड़े जोड़े तो बढ़ी धड़कन | ICC T20 WC: भारत पाकिस्तान मैच पर लगा 1000 करोड़ रुपये का सट्टा, एंटी करप्शन यूनिट मुस्तैद | बच्चों की कोरोना वैक्सीन पर अदार पूनावाला बोले- हम जल्दबाजी नहीं करेंगे | NCB की रडार पर 'प्रसिद्ध हस्ती' का नौकर, अनन्या पांडे के कहने पर आर्यन खान तक ड्रग्स पहुंचाने का शक |